meri dati de darbar kanjka khed diyan

मेरी दाती दे दरबार कंजका खेड दियां,
शावा कंजका खेड़ दियां,
आंबे रानी दे दरबार कंजका खेड़ दियां ,
शावा कंजका खेड़ दियां,
कल्याणी दे दरबार कंजका खेड़ दियां
शावा कंजका खेड़ दियां

सजे कंजका खबे कंजका कंजका चारे पासे,
जग जननी नाल खेडा खेडन खिड खिड निकलन हासे,
कंजका खेड़ दियां ….

रंग बिरंगियाँ चुनियाँ सिर ते इक तो इक है चंगी,
ओह हवा च उड़न उड जावन जिथे पींग पाई सतरंगी,
कंजका खेड़ दियां …

हीरे पने नीलम दे हथ गीटे लै बुडाकावां.
जगत रचावन वालियां जग नु खेडा खेड दिखावन,
कंजका खेड़ दियां….

लक्ष्मी खेड़े सरस्वती खेड़े खेड़े कांगडे वाली.
चिन्तपुरनी चामुंडा खेड़े खेड रही महाकाली
कंजका खेड़ दियां

Leave a Reply