meri dubhdi naiya da sai tu hi kinara hai sai tera sahara hai

रखिये मैं तेरे उते आस साई टूटना है मेरा विश्वाश साई,
तेरे तरल पौनी आ मैनु जग दा भरोसा नहीं एक तेरा सहारा है,
मेरी डूबदी नैया दा सैया तू ही किनारा है,

सुख दा तू साथी मेरा दुख दा तू हानि है,
मेरी ज़िंदगानी दी तू अनमिट कहानी है,
मैं तेरी हाथ दी पतंग सैयां तू सामने वाला है,
मेरी डूबदी नैया दा सैया तू ही किनारा है,

जीत लवा गी हर मुश्किल नु जे तू मेरे नाल है,
होवा क्यों मायूस जे संग साई लाजपाल है,
मेरे ऑखे वेले विच मेरे नाल तू आया है,
मेरी डूबदी नैया दा सैया तू ही किनारा है,

Leave a Reply