meri jaan jaaye vatan ke liye

ये धरती माँ है मेरी
के अलग ऐलान लिख देना
मेरी इस जिन्दगी पे
इसके है ऐहसान है लिख देना
ये किस का मकबरा है
दुनिया वाले जान जायेंगे
मेरी कब्र के पत्थर पर
हिन्दुस्तान लिख देना

बहे खून मेरा चमन के लिए
चमन के लिए…
मेरी जान जाये वतन के लिए

मेरा दिल जिगर और मेरी जान भी
मेरी जान भी
है कुर्बान कंधो चमन के लिए
मेरी जान जाये वतन के लिए

भरत राम की तरह करलो मिलाप
करलो मिलाप …..
हो इतना करम संघटन के लिए
मेरी जान जाये वतन के लिए

जो सरहद पे मुझको शहादत मिले
ना मै हुस्न की अंजुमन चाहता हु
ना मै यारी प्यारी दुल्हन चाहता हु
ना मै चाँद जैसा ललन चाहता हु
ना मै रोशनी की किरण चाहता हु
ना बस्ती ना सेहरा ना बन चाहता हु
ना मै आलिशान भवन चाहता हु
ना मै किमती पैरंहण चाहता हु
ना मै पैसा गाड़ी ना धन चाहता हु
खुदा मै तो ये ही चमन चाहता हु
यही धरती गम वो चमन चाहता हु

जो सरहद पे मुझको शहादत मिले
शहादत मिले …
तिरंगा उढाना कफ़न के लिए
मेरी जान जाये वतन के लिए

बहे खून मेरा चमन के लिए
चमन के लिए…
मेरी जान जाये वतन के लिए

Leave a Reply