meri maiya beparwaah hai tu

मेरी मैया बेपरवाह है तू,
संकट हरो मेरे बक्सगुन्हा माई तू,
मेरी मैया बेपरवाह है तू,

मेरे हाथ गंगा जल चारिया,
तेरी पंहारन बन के आवा,
माता नु अशनान करावा दर्शन इसे बहाने पावा,
माँ बेपरवाह है तू ..

मेरे हाथ सुहा सुहा चोलना,
तेरी मेसी बन बन के आवा,
माता गल चोला पावा दर्शन इसे बहाने पावा माँ,
माँ बेपरवाह है तू …….

मेरे हाथ फुला वाली टोकरी,
तेरी मैं मालन बन के आवा,
माता नु हार चढ़ावा दर्शन इसे बहाने पावा माँ.
माँ बेपरवाह है तू …

मेरे हाथ इतरा दिया शीशियाँ,
तेरी मैं गन्धं बन के आवा माता नु इतर चढ़ावा दर्शन इसे बहाने पावा,
माँ बेपरवाह है तू …….

मेरे हथ छतीस सो भोजना,
तेरी मैं भोजक बनके आवा माता नु भोग लगावा,
दर्शन इसे बहाने पावा,
माँ बेपरवाह है तू …….

Leave a Reply