moli ghut ute bn lai maa de naam di

मौली घुट उते बन लई माँ दे नाम दी,
साड़ी हर गल महा माई मन लाये गई,
धूल मथे उते मली होये जीहदे धाम दी,
साड़ी हर गल महामाई मन लायेगी.
मौली घुट उते बन लई माँ दे नाम दी

आसा माँ दे हाथ सौंप दिति डोर भगतो,
साडा ओहदे सिवा कोई नहीं होर भगतो,
जेहड़ी डोल दिया भगता दे हथ थाम दी,
मौली घुट उते बन लई माँ दे नाम दी

असि अठे पेहर उस नु याद करदे,
असा रहना एह गुलाम सदा ओहदे दर दे,
चिंता उस नु न फ़िक्र शाम दी,
मौली घुट उते बन लई माँ दे नाम दी

साहनु तोरी फिरि जिहड़ा निर्दोष प्यार है,
साडा रोम रोम जिसदा कर्ज दार है,
सोच ओहनू साढ़े सुख ते आराम दी,
मौली घुट उते बन लई माँ दे नाम दी

दुर्गा भजन

Leave a Reply