mujhe tere khatu dhaam aana hai

मुझे तेरे खाटू धाम आना है
वहीँ मेरा ठिकाना है
तेरे चरणों की रज्ज मिले मुझको
तेरी भक्ति को पाना है

तू मुझे बुलाएगा सीने से लगाएगा
श्याम श्याम कहता आऊंगा तेरे दर
चरणों से लिपट कर के देखूंगा मैं जी भर के
कदमो में तेरे मैं रख दूंगा सर
हाथ तेरा मेरे सर धराना है
वहीँ मेरा ठिकाना है

श्याम श्याम कहकर तेरा निशान लेकर के
जब खाटू नगरी में आऊंगा
खाटू धाम की माटी माथे पर लगाकर के
राधा की हवेली में जाऊँगा
वहां तेरा भजन सुनाना है
वहीँ मेरा ठिकाना है

बरसने लगी किरपा धाम पे बुलाया है
देखने लगा श्याम जी भर के
चरणों से उठा कर के सीने से लगाया है
शर्मा मेरा हाथ तेरे सर पे
जा तुझे मेरा भजन गाना है
वहीँ मेरा ठिकाना है

Leave a Reply