naksha dikhava tenu lad da uhdiyan ye nishaniyan

सुन गौरा समझावा तैनू
गल मैं सुनावा तैनू
नक्शा दिखावा तैनू लड़ दा
उह्दिया ये निशानीया

डर लगदा है
दिल कम्ब्दा है
अगे होर है रानिया
सुन………

गल सपा दी माला
तेरा निन्दर है काला
उह्दे सिर उत्ते लब्दा नी बाल कोई काला
भंगा खा खा
रगडे ला ला
होई अखा मस्तानिया
सुन गौरा…….

उह्दा चीटा है दाहड़ा
बनके आया लाढ़ा
सारे जग नालो वखरा उह्दा रुप निराला
उह्दी उमर बाल नी
साठ साल नी
उह्दी अस्थिया पुरानिया
सुन गौरा……..

तेरे नाल नही फब्दा
सो साल दा ओ लगदा
तेरे संग गौरा ओह ज़रा भी नही सज्दा
उसनु आया बुढ़ापा
नी ओ बुढ्डा जापे
तेरिया अल्डे जवानिया
सुन गौरा…….

Leave a Reply