paunahaari mere tere hth dor

पौणाहारी मेरी तेरे हथ डोर,
वेखी किते छड न देई,
तेरे भाजो न सहारा कोई होर,
वेखी किते छड न देई
पौनाहारी मेरी…….

छडेगा ता कटी जाऊ पतंग जिंदगानी दी,
राती वी न आस एस दुनिया बेगानी दी,
साडा रास्ता न रखी कमजोर,
वेखी किते छड न देई
पौनाहारी मेरी…….

गुडी साड़ी अम्बर चडाई रखी जोगियां,
घर घर विच मौजा लाई रखी जोगियां,
आवे हस्या द्वा मीठा मीठा शोर,
वेखी किते छड न देई
पौनाहारी मेरी…….

तेरे हथ ढोर बाबा सारे संसार दी,
हर था ते लाज रखी प्रीत बलिहार दी,
दर आया नु देई खुश खुश तोर,
वेखी किते छड न देई
पौनाहारी मेरी…….

Leave a Reply