peya rehan de charna ch sada ser ve kanhiyan tera ki bigde

पेया रेहन दे चरना च साडा सिर वे कन्हियाँ तेरा की बिगड़े,
तेथो बिछड़ेया होया बड़ा चिर वे,
कन्हियाँ तेरा की बिगड़े……

तेरे दर आई मैं ता सब कुछ खो के हंजुआ दी लड़ी तेरे ले पिरोके,
सामब लेवे गा जे प्यार दी जागीर वे,
कन्हियाँ तेरा की बिगड़े…….

दिल वाली हर इक गल तनु कवा गी,
इक पल तेरी जुदाई भी न सवा गी,
तेरी गली मेरा होऊ जेहा फिरे,
कन्हियाँ तेरा की बिगड़े….

तुहियो दस तेरे बाजो होर कौन मेरा,
इको तेरा आसरा सहारा बथेरा है,
कोल रख ला जे गली साड़ी फिरे,
कन्हियाँ तेरा की बिगड़े…..

गोपाली पागल वाल मार भोरा झातियाँ,
तेरे उते धूलि भूली वृन्दावन पपियाँ,
आप वचना तो आप न गिर वे,
कन्हियाँ तेरा की बिगड़े

Leave a Reply