phula di varkha ho rahi hai bawa lal de darbar te

फूला दी वरखा हो रही है बावा लाल दे दरबार ते,
जिस झोली विच फूल पे गया सतगुरु ने वो तार ते

सतगुरु चरनी जो फूल लगाया बदल देवे तकदीर दी,
संगता दी झोली विच पे के पांदा प्यार जंजीरा दी,
गुरु दे दर दे इक ही फूल ने,
फूला दी वरखा हो रही है बावा लाल दे दरबार ते

इस फूल दा ते फूल कोई न फुल बड़ा अंमुला है,
झोली सब दी भर दिंदे बाबा लाल दा दर खुला है,
हर झोली विच फूल लुटा के सब दे काज सवार दे,
फूला दी वरखा हो रही है बावा लाल दे दरबार ते

ओ संगत है भागा वाली जिसनु एह फूल मिलदा है,
जिस घर दे विच खुले खेड़े ख़ुशी नाल ओह खिल्दा है,
सागर वर्गे आज ते भगतो बाबा लाल ने तार ते
फूला दी वरखा हो रही है बावा लाल दे दरबार ते

Leave a Reply