phulla andar hassda eh

फुल्लां अंदर हस्सदा इ हर छेह अन्दर वसदा ऐ,
डिगिया ताहि उठांदा ऐ सुते भाग ज्गाउन्दा ऐ,
जय जोगी सिद्ध नाथा जय जोगी सिद्ध नाथा,
मैं बोला जय जय मैं बोला जय जय,

इक हथ जोगी चिमटा फड़ेया दूजे है तिरशूल,
दीं दुखी दी राखी करना इसदा है असूल,
जय जय दूधाधारी जय जय पौनाहारी,
फुला अन्दर हसदा ऐ…………..

सिर ते सुनहरी वंवारियां ने टेड तडागी सोहे,
एहदे मुख दा नूर नुरानी सब दे मन नु मोहे,
जय जय दूधाधारी जय जय पौनाहारी,
फुला अन्दर हसदा ऐ…………..

एह्नु ही निर्दोश ध्यावे एहियो नाथ निराला,
सुंदर गुफा दे विच है रहंदा भगता दा रखवाला,
जय जय दूधाधारी जय जय पौनाहारी,
फुला अन्दर हसदा ऐ…………..

Leave a Reply