piy bin sunlo che ji maharo desh

पिय बिन सूनो छे जी म्हारो देश
एसो है कोई पिय से मिलावै

तन मन करुं सब पेश
तेरे कारण बनबन डोलुं

करके जोगण वेश
पिय बिन सूनो छे जी म्हारो देश

अवधि बीती अजहुं न आये
पंडर को गया केस

मीरां के प्रभु कब रे मिलोगे
तज दियो नगर न रेस
पिय बिन सूनो छे जी म्हारो देश

Leave a Reply