rab di rja de vich raaji rehna sikh le

रब दी रजा दे विच राजी रहना सिख ले,
हर वेले उस दा तू नाम लेना सिख ले,
रब दी रजा दे विच राजी रहना सिख ले,

उसने जो दित्ता ओहदा शुक्र मनाई जा,
शाम ते सवेरे गुण उस दा तू गाई जा,
तेरा भाना मीठा लागे केहना बंदे सिख ले,
रब दी रजा दे विच राजी रहना सिख ले,

हनेरिया तूफान वाला भावे रहे झुल्दा,
श्रदा न मन जेहड़ा कदी नहीं रुलदा,
नाम दे समन्दरा च वेहना बंदे सिख ले,
रब दी रजा दे विच राजी रहना सिख ले,

किरपा सतगुरु दी नहियो ओ जांदा,
की है तेरे मन च ओ सब कुछ जांदा,
वाहेगुरु बोल ओहदे चरनी तू टिक ले,
रब दी रजा दे विच राजी रहना सिख ले,

Leave a Reply