raho baksde jo kite hoye kasur sai ji

रहो ब्क्श्दे जो किते हौये कसूर साईं जी,
कदी चरना चो करियो न दूर साईं जी,

सोहने स्वर्गा तो शिर्डी दे राह लगदे,
एहनी राही किरपा दे दरया वग दे,
सदा खुशियाँ दी पेंदी किथे घुर साईं जी,
कदी चरना चो करियो न दूर साईं जी,

सहनु दुखा ते कलेशा तो दूर रखियाँ,
नाम अपने दा चाड के सरुर रखियाँ,
सादे एब कर देयो चूर चूर साईं जी,
कदी चरना चो करियो न दूर साईं जी,

सारी दुनिया नु दिल चो भुला के आये आ,
खाली मुड़ना नि बड़ी आस लाके आये आ,
हाथ जोड़ खड़ा मंगल हटुर साईं जी,
कदी चरना चो करियो न दूर साईं जी,

Leave a Reply