rakhi bachiyan te thandi mithi chaa ehda eh mehra kardi ravi

असी लाल तेरे तू ऐ साड़ी माँ,
एहदा ऐ मेहरा करदी रवी,
रखी बचियाँ ते ठंडी मीठी छा,
एहदा ऐ मेहरा करदी रवी,

नूरो नूर हो जाये ऐसा रंग माये भरदे,
बचियाँ दे उते आज फेर मेहरा करदे,
सुनियाँ तू छडदी नही मुड़ कदे दातिये,
जे एक वारी फड लवे बाह,
एह्दा इ महरा करदी रवी,
रखी बचियाँ ते ठंडी मीठी छा,

कोई गल हॉवे असी तेनु ही माँ कहिदा,
तेरे नल दुःख सुख साँझा कर लईदा,
दिल विच तू ऐसी लिव लगी होई एह,
मेरे हिरदे दे विच वसे तेरा नाम,
एह्दा ई मेहरा करदी रवि,
रखी बचियाँ ते ठंडी मीठी छा….

तेरे प्यार जैसा माये प्यार नहिओ तकियां,
अपना बनाई राखी जीवे सहनु राखियाँ,
कड़े सरजीवन माँ खाली नहियो मोड़दी,
आ के जग सारा झुकदा ऐ ता,
एहदा इ मेहरा करदी रवी,
रखी बचियाँ ते ठंडी मीठी शा…..

Leave a Reply