rakhi charna de kol dhune valiyan baba tu rakhi charna de kol

पौनाहारी बाबा जी राखी चरना दे कोल,
चिमटे वालियां साईंया तू रखी चरना दे कोल,
रखी चरना दे कोल रखी चरना दे कोल,
धुनें वालियां बाबा तू रखी चरना दे कोल,

जी करदा मैं नोकर बनके करा चाकरी तेरी,
करा चाकरी तेरी बाबा करा चाकरी तेरी,
तेरे दर दी सेवा करके तर जावे जींद मेरी,
दुधाधारी बाबा जी रखी चरना दे कोल
एह मिटी दा पूतला ऐब गुनाह दे नाल भारियां,
ऐब गुनाहा दे नाल भारियां,
तेरे दर्शन करके ही मैं साफ़ ईस नु करियां,
बोह्डा वालियां साईंया वे रखी चरना दे कोल…

सिर्हाले दे खुले वरगे तू पत्थर दिल तारे,
बाबा तू पत्थर दिल तारे,
चोह कुटा विच महिमा गाउंदे ताहियो भगत प्यारे,
ग़ुआ वालियां बाबा तू रखी चरना दे कोल

Leave a Reply