ramta padharo mahare aangne

रमता पधारो म्हारे आंगणे मारा बजरंग बाला,
लुल लुल जोडू दोनों हाथ,

माता अंजनी रा थे लाडला मारा बजरंग बाला
केसरी पिताजी रो नाम माँ अंजनी रा लाला
रमता पधारो

सेवा करी थे राजा राम री मारा बजरंग बाला
मन में बसाया सीता राम माँ अंजनी रा लाला
रमता पधारो

छठ पूनम ने मंगल वार ने मारा बजरंग बाला
जनम लियो जग माय वो अंजनी रा लाला
रमता पधारो

दास अशोक की या विनती मारा बजरंग बाला
भव से लगावो मने पार माँ अंजनी रा लाला
रमता पधारो

कृष्ण भजन

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply