rangla maaye ni tera darbar

रंगला माये नी तेरा दरबार,
दर तेरे देख्या मैं झुक्दा है सारा संसार,
रंगला माये नी तेरा दरबार,

माँ तेरा द्वार किना सजदा पेया है,
स्वर्ग तो सोहना लगदा पेया है,
ठंढियां हाववा आऊं तन मन रूहा दें ठार,
रंगला माये नी तेरा दरबार,

सच्ची गल कवा तेरे बिना नहीं सरदा,
रजन न आखियाँ दिल भी नहीं भरदा,
रेहमता ने तेरियां माँ इक तू ही सच्ची सरकार,
रंगला माये नी तेरा दरबार,

रंग दरबार वाले किवे दसा बोल माँ,
सब कुझ दातिए तेरा अनमोल माँ,
कवे सरजीवन माँ बेअंत मेहरा बेशुमार,
रंगला माये नी तेरा दरबार

Leave a Reply