rehte ho aap hai bajrang ram ji ke paaw me

रहते हो आप हैं बजरंग राम जी के पाँव में
हमको भी चरणों से लगाए रखना

सागर को फांदे पल में लंका जलाये
माता सीता का पता जाकर लगाए
तेरे सिवा कोई वीर नहीं
रहते हो मात सिया की ममता की छाँव में
हमको भी चरणों से लगाए रखना

लक्ष्मण के प्राणो पे जो विपदा थी आई
पर्वत उठा के लाये बूटी पिलाई
जाग उठे देखो वीर बली
जान लगा दी तुमने भक्ति के दांव में
भक्ति में हमको भी लगाए रखना
हनुमान …. हनुमान

सीने में जिनके सियाराम जी बसते हैं
मंगला मूर्ती सदा मंगल ही करते हैं
करता रहे ये विजय तेरा ध्यान
रखना सेवा को बजरंग तेरी ही पनाह में
भक्ति की ज्योत जलगाये रखना
हनुमान …. हनुमान

Leave a Reply