sadhu bhai avagat likhiyo naa jae

साधो भाई अवगत लिखियो ना जाई,
जो कोई लिखसी संन्त शूरमा ,नूरा में नूर समाई,

जैसे चन्दा उदक में दरसे ,ज्यूँ सायब सब माही,
दे शष्मा घट भीतर देखो ,नूर निरन्तर नही,

उरां से उरां दुरा से दुरा ,हरि हिरदा के माही,
सपना में नार गमायो बालू ,जाग पड़ी जब वाही,

जाग्रत जोत जगे घट भीतर ,ज्यां देखूं वा सांई,
उगा भांण बीत गई रजनी ,हरि हम अंतर नाही,

ममता मेट मिलो मोहन से ,गुरां से गुरु ग़म पाई,
कहे बन्ना नाथ सुणो भाई ,संता अब कुछ धोखा नाही,

Bhakti Geet Bhajan Music Video

Leave a Reply