sai ji tahnu tk tk ke jeewa

साई जी तहनु तक तक के जीवा,
अखियां राही दर्शन करके नित अमृत पीवा
साई जी तहनु तक तक के जीवा,

सुख विच शुक्र मनावा ते मैं दुःख विच अर्ज सुनावा,
हर वेले अरदास करा मैं पल पल शीश निभावा,
सुमिरन विच भी ते कुल जीवन विच भी बस एहियो चाहवा,
साई जी तहनु तक तक के जीवा,

चन ते चकोर दे वरगा ते सादा वे नाता,
असा है कट पुतली ओ साईजी तू सा हो लेख विद्याता,
असा हां मूरख ते अज्ञानी तू सी पुराण ज्ञाता,
साई जी तहनु तक तक के जीवा,

दुनिया दे कम कार दे अन्दर याद न भुल्दी तुह्दी,
दिल दे शीशे दे विच सूरत दिसदी तुहाडी,
साहिल जी जान दे अन्दर झलक दिख्दे तुहाडी,
साई जी तहनु तक तक के जीवा,

Leave a Reply