saiya kale kale main to hur ki pari bhajan Lyrics

सैया काले काले मैं तो हूर की परी,

जैसा टिका मजधार वैसी बिंदियाँ ना मिली,
जैसी मैं छबीली नार वैसे सैयां ना मिले,
सैया काले काले मैं तो हूर की परी

जैसा कॉलर मझधार वैसा पेंडल न मिला,
जैसी मैं छबीली नार वैसे सैयां न मिले,
सैया काले काले मैं तो हूर की परी

जैसी तगड़ी मझधार वैसा गुछा न मिला,
जैसी मैं छबीली नार वैसे सैयां न मिले,
सैया काले काले मैं तो हूर की परी

जैसी अंगूठी मजधार वैसा कंगना न मिला,
जैसी मैं छबीली नार वैसे सैयां न मिले,
सैया काले काले मैं तो हूर की परी

Leave a Reply