sanu chithi pai hoi eh

उचिया पहाड़ा ऊते रहन वालिये
सुनया तू सानू चिठी पाई होई ऐ
आवंगा जरूर तेरे दर दातिये
मन विच लग्न लगाई होई ऐ

सोन दा महीना पैंदी भूर दातिये
भगता नु रहन्दी ऐ उडीक दातिये
असां वी ता औना ऐ जरूर दातिये
मन विच लग्न लगाई होई ऐ

दर तेरे ऊते मइया ऑन टोलिया
नाम तेरा ले ले मइया पौन बोलिया
असां वी ता औना ऐ जरूर दातिये
मन विच लग्न लगाई होई ऐ

सुनया ऐ दाती भगता नु तार दी
सार आज ले ले अपने तू लाल दी
असां वी ता दुखड़ा सुनना दातिये
मन विच लग्न लगाई होई ऐ

Leave a Reply