sanwarae o mere sanware shyam tere diwane shyam tere mastane

श्याम तेरे दीवाने श्याम तेरे मस्ताने,
तुझसे मिलने आ गये खाटू धाम,
सांवरे ओ मेरे साँवरे…..

सँवारे तूने याद किया दीवानो को भुला लिया,
कितना प्रेम लुटाते हो अपने पास भूलते हो,
दिल पे लिखी बातो को तू समजे तू ही जाने,
तुझसे मिलने आगे खाटू धाम,
सांवरे ओ मेरे साँवरे….

खाटू की माटी चन्दन श्याम बगीची है चन्दन,
गंगा सा लागे निर्मल श्याम कुंड का अमृत जल,
मिलते यहाँ अनजाने रहते नहीं वो अनजाने,
तुझसे मिलने आ गये खाटू धाम,
सांवरे ओ मेरे साँवरे

चोखानी के नैन लगे तुझसे प्रीत के तार जुड़े,
बन गए ललित के संग आया खूब उसे खाटू भाया,
आके यहाँ वापिस हम घर जाए दिल ना माने,
तुझसे मिलने आ गये खाटू धाम,
सांवरे ओ मेरे साँवरे

Leave a Reply