sanware ki masti me rehte hai

यह जग दुनिया वाले हमे पागल केहते है
हम अपने सांवरे की मस्ती में रहते है

दीवानो की दुनिया का आलम ही निराला है,
खशियो में तो रोते है मुश्किल में हँसते है,

मिल जाये कोई प्रेमी न हेल्लो न हाय,
हम हर इक्क प्रेमी को राधे राधे कहते है,

कोई धन का पागल है कोई तन का पागल है,
aहम पागल सांवरे के बडी शान से कहते है,

गली गली जाके कन्नू भजन सुनाता है,
सब नच नच कान्हा के जैकारे कहते है,

Leave a Reply