saras supawan shakati he tejomai

सरस सुपावन शक्ति हे तेजोमयी अपार
हे आनंद स्वरूपणी मम हृदय कर उज्जियार
जय माँ जय माँ

अराधन तेरा करूं निशदिन आठों याम
घट अंतर शक्ति जगे गाऊं तब शुभ नाम
जय माँ जय माँ

पत्तित-पावनी मात हे बालक शरण तिहार
मंगलमय वरदान दे यही विनती बारम्बार
जय माँ जय माँ

जगदम्बिके जय जग जननी माँ
क्या मन हरी नाम सुहाया है
वरु सब कुछ माँ चरणों पर
मेरे मन को ये भाया है
जगदम्बिके जय जग जननी माँ
जय माँ जय माँ

हे प्रेम पुंज हे करुणा मयी
हे आदि शक्ति जग जगानी माँ
जय माँ जय माँ
तेरा वरद हस्त मेरे शीश रहे
बालक तेरे चरणों में आया है जगदम्बिके जय जग जननी माँ

Leave a Reply