sareya to sohna balak nath hai jihda sone di gufa de vich vaas hai

सरेया तो सोहना बालक नाथ है,
जिहड़ा सोने दी गुफा दे विच वास है,
शिव जी तो वर है पाया दुनिया न तारण आया,
भगता दे रेह्न्दा जोगी साथ है,
सरेया तो सोहना बालक नाथ है,

शीश ते जटावा मुख चमका है मारदा,
गौआँ दा है पाली योगी राखा संसार दा,
सरेया तो सोहना बालक नाथ है,

योगी साढ़े चावा विच योगीसाढ़े सावा विच,
योगी साढ़े दिल विच योगी साढ़ेसाहा विच,
योगी साढ़े आसे पासे योगी है निगाह विच,
शिव जी तो वर है पाया दुनिया न तारण आया,
भगता दे रेह्न्दा जोगी साथ है,
सरेया तो सोहना बालक नाथ है,

धुनें दी भभूति जेहड़े मथे उते लौंदे ने,
बाबा जी दी शक्ति नाल दुःख कटे जांदे ने,
सरेया तो सोहना बालक नाथ है,

ज्योत जगावा नित आरती गवा नित,
बाबा जी दे मंदिर जाके झाड़ू पोचे लावा नित,
फुला दे हार लया के दर ते चढ़ावा नित,
शिव जी तो वर है पाया दुनिया न तारण आया,
भगता दे रेह्न्दा जोगी साथ है,
सरेया तो सोहना बालक नाथ है,

Leave a Reply