satguru de hath dor maaye ni meri satguru de

सतिगुरु दे हथ डोर माये नि मेरी सतिगुरु दे,
आपे लाइयाँ कुंडियां नि माये आपे खिचदा डोर,
माये नि मेरी सतिगुरु दे सतिगुरु दे हथ डोर,

मीरा वाग दीवानी हो गई ओहदी मैं मस्तानी हो गई,
ओहदे वल जद ध्यान करा मैं चढ़दी जांदी लोर,
माये नि मेरी सतिगुरु दे सतिगुरु दे हथ डोर,

माये ओहदा मैं पला फ्दाया रंग सतगुरु दा मेरे ते चदेया,
सब कुछ बक्श दिता ऐ मेनू छड़ी न कोई थोड,
माये नि मेरी सतिगुरु दे सतिगुरु दे हथ डोर,

रोशन रहिये वाला नि माये फेर दा ओहदी माला नि माये,
सोह सोह बोल के माये पाउंदा रहंदा शोर,
माये नि मेरी सतिगुरु दे सतिगुरु दे हथ डोर,

Leave a Reply