sathi re bhul na jana mera pyar

साथी रे भूल ना जाना मेरा प्यार
मेरी वफ़ा का ऐ मेरे हमदम
कर लेना ऐतबार
साथी रे भूल ना जाना मेरा प्यार

दूर कभी कर दे जो मजबूरी
वो दूरी तो होगी नज़र की दूरी
तेरी दुवाएं गर साथ रही,
आयेगी फिर से बाहर
साथी रे भूल ना…..

काश कभी ये रैना ना बीते
प्रीत का ये पैमाना कभी ना रिते
डर है कही आनेवाली सहर,
ले ले ना दिल का करार
साथी रे भूल ना जाना…….

This Post Has One Comment

  1. Pingback: tu hi hai naiya meri tu hi kinara – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply