sharde jay hans vahini

शारदे जय हंस वाहिनी
जयति वीणा वादिनी
जय सरस्वती ज्ञान दायिनी
कमल हंस विराजनी
शारदे जय हंस वाहिनी जयति वीणा वादिनी

ऋद्धि सिद्धि विवेक दायिनी
तुम त्रिशूल विनाशनि
देवी मंद सुहास वर्धिनी
हृदय हंस विराजिनि
शारदे जय हंस वाहिनी….

मधुर काव्य कला दीक्षा
प्रणव नाद विकाशनि
भगवती संगीत वरदे
भुवन मानस वासिनी
शारदे जय हंस वाहिनी…..

दुर्गा भजन
सिंगर – भरत कुमार दबथरा

This Post Has One Comment

  1. Pingback: haare hum tumhare tum bno na sahare – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply