shiv mohe apni bhasam bna lo

शिव मोहे अपनी भस्म बना लो,
बसम बना कर तन पे रमा लो

है इस जग के रिश्ते झूठे इनके भवर से मोहे निकालो,
शिव मोहे अपनी भस्म बना लो,

भूल छमा मेरी करदो हे भोले और परीक्षा अब मेरी ना लो,
शिव मोहे अपनी भस्म बना लो,

तुमसे मिलन की राह यही है,तुम इस राह की राह निकालो,
शिव मोहे अपनी भस्म बना लो,

काट दो चौरासी के बंधन,
अपने अनूप की बात ना टालो,
शिव मोहे अपनी भस्म बना लो,

Leave a Reply