shiv tere mandir ki mandir ki ghanti main ban jaau

शिव तेरे मंदिर की मंदिर की घंटी मैं बन जाऊ,

मेरे मीठे स्वर सुनके कर भोले तू अँखियाँ खोले,
मेरी आद्दत पड़ जाये तुझे शम्भू हौले हौले,
हो जाये बेचैन तेरा मन जब मैं नजर ना आउ,
खुश हो जाये बम बम के संग जब मैं ताल मिलाउ,
शिव तेरे मंदिर की मंदिर की घंटी मैं बन जाऊ,

शिवरती जो तोहार जो आये शिव शिव गाउ,
भोले तेरे नाम की महिमा मैं भगतो को सुनाऊ,
तेरे दीवानो में सबसे ऊपर नाम लिखाउ,
कैसी होती है शिव भक्ति दुनिया को सारी दिखाऊ,
शिव तेरे मंदिर की मंदिर की घंटी मैं बन जाऊ,

तेरे भक्तो के हाथो में डोर हो भोले मेरी,
सूरज से पहले उठ जाऊ करू कभी न देरी,
श्रद्धा का गंगा शिव पिंडी पे रोज चढ़ा हु,
जन्म मरण के बंधन से मुक्ति मैं पार पाउ,
शिव तेरे मंदिर की मंदिर की घंटी मैं बन जाऊ,

Leave a Reply