shyam ik kaam kara de bansuriyan phir se bja de

पिया सोने न मैं तो जाऊगी,
तेरी बाहो में सो जाऊगी,
मुझे प्यार का गीत सूना दे,
श्याम इक काम करा दे,
बांसुरियां फिर से बजा दे,

तेरी मुरली की मैं दीवानी क्यों करता तू अनाकानी,
इक बार तू इसे बजादे कोई प्यार का राग सुना दे,
मेरे दिल की आस पूजादे,
श्याम इक काम करा दे,
बांसुरियां फिर से बजा दे,

माखन मिश्री मँगवाऊ अपने हाथो से खिलाऊ,
क्यों इतना मुझे सताये मुझे अपने पीछे भगाये,
कैसे माने गा तू बतला दे,
श्याम इक काम करा दे,
बांसुरियां फिर से बजा दे,

जाके मैया से बतलाऊ तेरी कान पकड़ कर खिचवाऊ,
लालो परवीन को भाये दीपी को रोज सुनाये,
कभी मेरा भी नाम भुलाले,
श्याम इक काम करा दे,
बांसुरियां फिर से बजा दे,

Leave a Reply