shyam tera mere ghar pe sda aana jaana tu aaye kabhi main aau ye prem purana bana rahe

श्याम तेरा मेरे घर पे सदा आना जाना बना रहे,
तू आये कभी मैं आउ ये प्रेम पुराना बना रहे,

कुछ मांगू न मैं और प्रभु सदा होती ये मुलाकात रहे,
मैं बोलू कुछ तुम बोलो होती ये दिल की बात रहे,
बातो के जरिये मिलने का कोई तो बहाना बना रहे,
तू आये कभी मैं आउ ये प्रेम पुराना बना रहे,

मुझे धूल मिले तेरी चौकठ की जिसे माथे रोज लगता रहु,
जब तक मैं हु दुनिया में तुझे गाके भजन रिजाता राहु,
अगर तुझको भाये भजन मेरे तो दिल में ठिकाना बना रहे,
तू आये कभी मैं आउ ये प्रेम पुराना बना रहे,

जब जब आओ गे घर मेरे मैं दुनिया को बतलाऊ गा,
मालिक मेरे घर आया मैं चरणों में विष जाउगा,
मेरे ऊपर मेरे मालिक की किरपा का खजाना बना रहे,
तू आये कभी मैं आउ ये प्रेम पुराना बना रहे,

तेरा ही किया तुझको अर्पण मेरा,
जो कुछ भी है तेरा है चाहे सुख चाहे दुःख बाबा रोशनी चाहे अँधेरा है,
रोमी न भूले कभी तुझे ये सदा दीवाना बने रहे,
तू आये कभी मैं आउ ये प्रेम पुराना बना रहे,

Leave a Reply