takdeer badal ti hai rehmat se fakeero ki

तकदीर बदल ती है रेहमत से फकीरो की,
चलो द्वार चले मिल के हमे साई ने भुलाया है,

कण कण में साई जी तेरा रूप समाया है,
फर्याद सुना ने को मेरा दिल कर आया है,

तेरे रूप हजारो है सब में तेरी छाया है,
हर रंग में खुश्बू तेरी तेरी ही ये माया है,

तेरे अधर साई तुझे गा गा भुलाया है,
रवि चन्दर ने भी बाबा तेरा दर्शन पाया है,

Leave a Reply