tere charno me hum apni shrda ke phul chadaayege

तेरे चरणों में हम अपनी श्रदा के फूल चढ़ायेगे,
जब तक है सांसे इस तन में हम तेरा ही गुण गाये गे,

तूने तो हम को बहुत दिया भर दी तूने झोली खाली,
जीवन की बगियाँ महका दी रखवाली की बन कर माली,
रखी न कोई तूने कमी हर सुख को तूने पाया है,
जीवन है मेरा बदल गया तूने जब से अपनाया है,
तेरे चरणों में हम अपनी श्रदा के फूल चढ़ायेगे,

भगवान और भक्त का दुनिया में रिश्ता तो बड़ा ही न्यारा है ,
जो शरण तुम्हारी आता है बाबा वो तुझको प्यारा है,
भण्डार तेरा है बहुत बड़ा कुछ प्यार हमे भी देदो तुम,
फिर और न कुछ मैं मांगू गा हमे अपनी शरण में लेलो तुम,
तेरे चरणों में हम अपनी श्रदा के फूल चढ़ायेगे,

तेरे ही भरोसे जीते है लेते बस नाम तुम्हरा है,
चरणों की सेवा सौंपी है ये भी उपकार तुम्हारा है,
ईशा है हमारी इक यही के दर्श तुम्हारा पाएंगे,
सिर हाथ फिरदो हे बाबा हम भव सागर तर जायेगे,
तेरे चरणों में हम अपनी श्रदा के फूल चढ़ायेगे,

Leave a Reply