tere dar te main aaya

तेरे दर ते मैं आया कई वार,
माये नि मेनू खैर नि मिली,
कीते तरले मैं लख ते हजार,
कीते तरले मैं लख ते हजार,
माये नि मेनू खैर नि मिली,
तेरे दर ते मैं आया कई वार,

लोकी आवंदे ते भेटा वी चडावदे,
तरा तरा दे माँ भोग भी ल्गवांदे,
मैं ते ले के आया हंजुआ दे हार,
माये नि मेनू खैर नि मिली,
तेरे दर ते मैं आया कई वार,

मेनू रोक न पुजारी कुझ कहन दे,
झंदेवाली दा नजारा मेनू लेन दे,
मेनू कड़ी न तू मंदिरा चो बाहर,
माये नि मेनू खैर नि मिली,
तेरे दर ते मैं आया कई वार,

मेनू आजे वी उडीक तेरे औन दी,
एधर आ गई हूँ घड़ी मेरे जान दी,
टूट चले मेरे साहवा वाले तार,
माये नि मेनू खैर नि मिली,
तेरे दर ते मैं आया कई वार,

मैं ते कदे वि न तेनु माँ विसारेया,
दुःख सुख वेले तेनु ही पुकारेया,
आ जा चंचल दी सुनके पुकार,
माये नि मेनू खैर नि मिली,
तेरे दर ते मैं आया कई वार,

Leave a Reply