tere nam se barkaat hai dil me tere rehmat hai jisne bhi tujhe mana tujh pe balhari hai

तेरे नाम से बरकत है दिल में तेरे रेहमत है,
जिसने भी तुझे माना तुझ पे बलहरी है,

अरमात में है मेरे क्या पेश करू तुझको,
ये दिल भी तुम्हारा है ये जान भी तुम्हारी है,

नजरे झुक जाती है अरदास को उठते हाथ,
करे विनती जो दर पे तेरे बात जो बन जाती है,

है कारवा बड़ा तेरा हम खो ना जाए कही,
थामे रखना तू हाथ राहा टेडी मेडी है,

Leave a Reply