thari yaad sataawe aadhi raat me

म्हाने बहलावो ना श्याम बाता मे
थारी याद सतावे आधी राता मे

हारे का साथी हैं बाबा भक्तो का हितकारी
मनमोहन हैं खाटू वाला निले की असवारी
म्हारे मोरछडी फेरो माथा मे
थारी याद सतावे आधी राता मे

थाने सोफ दियो हैं बाबा यो म्हारो परिवार
रक्षा करनी थारे हाथ मे राखो सार सम्भाल
म्हारो परिवार हैं थारे हाथा मे
थारी याद सतावे आधी राता मे

दुनिया की सब मोजे छुटे खाटू कभी ना छुटे
श्याम शरण मे आके तेरे दर की मस्ती लुटे
म्हाने राह दिखाद्यो खाटू आबा ने
थारी याद सतावे आधी राता मे

मे बालक हू थारो बाबा मने गले लगाल्यो
मे निर्धन तु सेठ सांवरा नई्या पार लगाद्यो
थे तो तरसावो ना श्याम पारीक ने
थारी याद सतावे आधी राता मे

Leave a Reply