Top 10 Shiv Ji Hindi Bhajan Lyrics

Top 10 Shiv Ji Hindi Bhajan Lyrics in hindi

भोला भांग तुम्हारी मैं घोटत घोटत हारी

भोला भांग तुम्हारी,
मैं घोटत घोटत हारी,
हमसे ना घोटी जाए,
तेरी एक दीना की होए तो घोटु,
रोज ना घोटी जाए।।

श्लोक – भोले तो अलमस्त है,
पिए धतूरा भंग,
गले में सोहे कालिया,
जटा में सोहे गंग,
गंग भंग दो बहन है,
जो रहे उमा के संग,
जिन्दा तारण भंग है,
मुर्दा तारण गंग।।

भोला भांग तुम्हारी,
मैं घोटत घोटत हारी,
हमसे ना घोटी जाए,
तेरी एक दीना की होए तो घोटु,
रोज ना घोटी जाए।।
बम भोला बम भोला बम भोला,
बम भोला बम भोला बम भोला।

जिस दिन से मैं ब्याह के आई,
भाग हमारे फूटे,
राम करे ऐसा हो जाये,
ये सिलबट्टा टूटे,
ये रोज रोज की रगड़ झगड़,
हमसे तो सही ना जाये,
तेरी एक दीना की होए तो घोटु,
रोज ना घोटी जाए।।
बम भोला बम भोला बम भोला,
बम भोला बम भोला बम भोला।

नाजुक तन है नाज से पाला,
कैसे कहु कसाले,
घोटत घोटत भांग तुम्हारी,
हाथ में पड़ गए छाले,
मैं मायके को जाऊँ तो स्वामी,
अकल ठिकाने आए,
तेरी एक दीना की होए तो घोटु,
रोज ना घोटी जाए।।
बम भोला बम भोला बम भोला,
बम भोला बम भोला बम भोला।

भोलेनाथ माता पारवती को समझाते हुए,
सुन गणपति की महतारी,
तुम घोंटो भांग हमारी,
बिन भांग रहा नहीं जाए,
गौरां तुमको छोड़ दूँ लेकिन,
भांग ना छोड़ी जाए।
सुन गौरा सुन गौरा सुन गौरा
सुन गौरा सुन गौरा सुन गौरा।

भांग नहीं भगवती है ये,
घट घट में रहने वाली,
इसको पीकर ऋषि मुनि नारद,
निशदिन ध्यान लगाए,
गौरां तुमको छोड़ दूँ लेकिन,
भांग ना छोड़ी जाए।
बम भोला बम भोला बम भोला,
बम भोला बम भोला बम भोला।

भोला भांग तुम्हारी,
मैं घोटत घोटत हारी,
हमसे ना घोटी जाए,
तेरी एक दीना की होए तो घोटु,
रोज ना घोटी जाए।।
सुन गणपति की महतारी,
तुम घोंटो भांग हमारी,
बिन भांग रहा नहीं जाए,
गौरां तुमको छोड़ दूँ लेकिन,
भांग ना छोड़ी जाए।
सुन गौरा सुन गौरा सुन गौरा
सुन गौरा सुन गौरा सुन गौरा।

https://youtube.com/watch?v=G3d-GgmyfIA%3Ffeature%3Doembed

कौन है वो कौन है वो कहाँ से वो आया।

कौन है वो कौन है वो,
कहाँ से वो आया,
चारों दिशाओ में तेज़ सा वो छाया,
उसकी भुजाएं बदले कथाएँ,
भागीरथी तेरी तरफ शिव जी चले,
देख जरा ये विचित्र माया।।

जटा कटाह संभ्रम भ्रमन्निलिम्प निर्झरी,
विलोलवीचि वल्लरी विराजमान मूर्धनि,
धगद् धगद् धगज्ज्वलल् ललाट पट्ट पावके,
किशोर चन्द्र शेखरे रतिः प्रतिक्षणं मम।

कौन है वो कौन है वो,
कहाँ से वो आया,
चारों दिशाओ में तेज़ सा वो छाया,
उसकी भुजाएं बदले कथाएँ,
भागीरथी तेरी तरफ शिव जी चले,
देख जरा ये विचित्र माया।।

धरा धरेन्द्र नंदिनी विलास बन्धु बन्धुरस्,
फुरद् ध्रुगन्त सन्तति प्रमोद मान मान से,
कृपा कटाक्ष धारणी निरुद्ध दुर्धरापदि,
क्वचिद् दिगम्बरे मनो विनोदमेदु वस्तुनि।

लता भुजङ्ग पिङ्गलस् फुरत्फणा मणिप्रभा,
कदम्ब कुङ्कुमद्रवप् रलिप्तदिग्व धूमुखे,
मदान्ध सिन्धुरस् फुरत् त्वगुत्तरीयमे दुरे,
मनो विनोद मद्भुतं बिभर्तु भूतभर्तरि।

कौन है वो कौन है वो,
कहाँ से वो आया,
चारों दिशाओ में तेज़ सा वो छाया,
उसकी भुजाएं बदले कथाएँ,
भागीरथी तेरी तरफ शिव जी चले,
देख जरा ये विचित्र माया।।

https://youtube.com/watch?v=z7tDWFlCEkw%3Ffeature%3Doembed

अजब है तेरी माया इसे कोई समझ ना पाया

Shiv Bhajanअजब है तेरी माया इसे कोई समझ ना पाया।

ऊँचे ऊँचे मंदिर तेरे, ऊँचा तेरा धाम,
हे कैलाश के वासी भोले, हम करते है तुझे प्रणाम।

अजब है तेरी माया,इसे कोई समझ ना पाया,
गजब का खेल रचाया,सबसे बढ़ा है तेरा नाम,
भोलेनाथ भोलेनाथ भोलेनाथ ॥॥

अद्भुत है संसार यहाँ पर कई भूलेखे है,
तरह तरह के खेल जगत मे हमने देखे है,
तू है भाग्य विधाता तेरे लेख सुलेखे है,
तू लिखने वाला है ये सब तेरे लेखे है
अजब है तेरी माया,इसे कोई समझ ना पाया॥॥

पारब्रह्म परमेश्वर तू है हर कोई माने रे,
सब तेरे बालक है क्या अपने बेगान रे,
तू अंतर्यामी सबकी पीडा पहचाने रे,
सबके ही हृदय मे बेठा घट घट की जाने रे,
अजब है तेरी माया,इसे कोई समझ ना पाया॥॥

हे योगेश्वर योग से तुने जगत बनाया है,
तन पे तूने भस्म रमा के अलख जगाया है,
कही धुप के रंग सुनहरे कही पे छाया है,
तूने किया है वही जो तेरे मन को भाया है,
अजब है तेरी माया,इसे कोई समझ ना पाया॥॥

Shiv Bhajan अरदास हमारी है आधार तुम्हारा है।

अरदास हमारी है, आधार तुम्हारा है,
स्वीकार करो बाबा, प्रणाम हमारा है।।

नैनो में रमे हो तुम, मेरे दिल में बसे हो तुम,
तुझे पल भी ना बिसरावउँ, इस तन में रमे हो तुम,
मत मुझसे बिछुड़ जाना, ये दास तुम्हारा है,
स्वीकार करो बाबा, प्रणाम हमारा है,
अरदास हमारी है।।

बिन सेवा किये तेरी, मुझे चैन ना आता है,
बिन ज्योति लिए तेरी, मेरा मन धड़काता है,
होठों पे रहे तेरा, एक नाम तुम्हारा है,
स्वीकार करो बाबा, प्रणाम हमारा है,
अरदास हमारी है।।

मेरी जीवन नैया को, तेरा ही सहारा है,
तुम मात पिता मेरे, और सतगुरु प्यारा है,
नैया का खिवैया तू, तू कृष्ण हमारा है,
स्वीकार करो बाबा, प्रणाम हमारा है,
अरदास हमारी है।।

अर्जी स्वीकार करो, भवसागर पार करो,
सर हाथ फिराकर के, मेरा उद्धार करो,
गिरते को उठाना तो, प्रभु काम तुम्हारा है,
स्वीकार करो बाबा, प्रणाम हमारा है,
अरदास हमारी है।।

अरदास हमारी है, आधार तुम्हारा है,
स्वीकार करो बाबा, प्रणाम हमारा है।।

https://youtube.com/watch?v=DVYA_8PIrTg%3Ffeature%3Doembed

Shiv Bhajanसत्यम शिवम सुंदरम।

​ईश्वर सत्य है,
सत्य ही शिव है,
शिव ही सुंदर है
जागो उठकर देखो,
जीवन ज्योत उजागर है
सत्यम शिवम सुंदरम,
सत्यम शिवम सुंदरम।।

राम अवध में,काशी में शिव,
कान्हा वृन्दावन में,
दया करो प्रभू, देखू इनको,
हर घर के आंगन में,
राधा मोहन शरणम,
सत्यम शिवम सुंदरम।।

एक सूर्य है, एक गगन है,
एक ही धरती माता,
दया करो प्रभू, एक बने सब,
सबका एक से नाता,
राधा मोहन शरणम,
सत्यम शिवम सुंदरम।।

Shiv Bhajanतेरा पल पल बीता जाए मुख से जपले नमः शिवाय।

तेरा पल पल बीता जाए मुख से जप ले नमः शिवाय।।
ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय॥

शिव शिव तुम हृदय से बोलो,
मन मंदिर का परदा खोलो,
तेरा अवसर खाली ना जाए,
मुख से जप ले नमः शिवाय॥

यह दुनिया पंछी का मेला,
समझो उड़ जाना है अकेला,
तेरा तन ये साथ न जाय,
मुख से जप ले नमः शिवाय ॥

मुसाफिरी जब पूरी होगी,
चलने की मजबूरी होगी,
तेरा बिगड़ा प्राण रह जाये,
मुख से जप ले नमः शिवाय॥

शिव पूजन में मस्त बने जा,
भक्ति सुधा रस पान किये जा,
तु दर्शन विश्वनाथ के पाय,
मुख से जप ले नमः शिवाय॥

Shiv Bhajanऐसी सुबह ना आए आए ना ऐसी शाम

श्लोक – शिव है शक्ति, शिव है भक्ति, शिव है मुक्ति धाम।
शिव है ब्रह्मा, शिव है विष्णु, शिव है मेरा राम॥

ऐसी सुबह ना आए आए ना ऐसी शाम
जिस दिन जुबाँ पे मेरी, आए ना शिव का नाम॥

ॐ नमः शिवाय , ॐ नमः शिवाय।

मन मंदिर में वास है तेरा, तेरी छवि बसाई
प्यासी आत्मा बनके जोगन, तेरी शरण में आई
तेरी ही शरण में पाया, मैंने यह विश्राम
ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम।॥

तेरी खोज में न जाने, कितने युग मेरे बीते
अंत में काम क्रोध मद हारे, हे भोले तुम जीते
मुक्त किया तूने प्रभु मुझको, शत शत है प्रणाम
ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम।॥

सर्व कला संम्पन तुम्ही हो, हे मेरे परमेश्वर
दर्शन देकर धन्य करो अब, हे त्रिनेत्र महेश्वर
भव सागर से तर जाउंगा, लेकर तेरा नाम
ऐसी सुबह ना आए, आए ना ऐसी शाम।॥

Shiv Bhajanॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय।

ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय।ॐ।

नागेश्वराये भस्मांगराये,
गौरिप्रिराये नमः शिवाय,
शशिशेखराये सदासुखाये,
कृष्णेश्वराये नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय।ॐ।

सनातनाये जटाधराये,
त्रिलोचनाये वृषभद्धजाये,
नंदीश्वराये विश्वेश्वराये,
शिवशंकराये नमः शिवाय,
ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय।

मल्लिकार्जुनाये ओमकारशम्भु,
त्रियम्भकेश्वर रामेश्वराये,
सर्वेश्वराये शिववैधनाथ,
ब्रम्ह्थाधिपाये नमः शिवाय
ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय।ॐ।

शुभंकराये महाबलाये,
भूतेश्वराये डमरुधराये,
सुरसेवितायें मृत्युन्जनाये,
दिगम्बरायै नमः शिवाय
ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय।ॐ।

केदारनाथा भीमशंकराये,
श्रीसौम जय महाकालेश्वराये,
नागेन्दहराये नित्याशुभाये,
शरणागतम हर महेश्वराये,
शरणागतम हर महेश्वराये,
शरणागतम हर महेश्वराये।

Shiv Bhajanमैं तो दीवाना भोले का दीवाना।

मैं तो दीवाना भोले का दीवाना,
फिरता था एक पागल सड़को पे मारा मारा,
फिरता था एक पागल सड़को पे मारा मारा,
रहता था अलग सबसे दुनिया से कर किनारा,
रहता था अलग सबसे दुनिया से कर किनारा,
एक गोल काला पत्थर रखता था संग हरदम,
एक गोल काला पत्थर रखता था संग हरदम,
सर पे उठा के गाता होकर मगन वो बम बम,
सर पे उठा के गाता होकर मगन वो बम बम,
पूछा किसी ने उससे क्या नाम है तुम्हारा,
पूछा किसी ने उससे क्या नाम है तुम्हारा,
रहते हो किस जगह पे क्या काम है तुम्हारा,
रहते हो किस जगह पे क्या काम है तुम्हारा,
कहने लगा वो हस के क्या जानते नहीं हो,
कहने लगा वो हस के क्या जानते नहीं हो,
भोले का हूँ दीवाना पहचानते नहीं हो,
भोले का हूँ दीवाना पहचानते नहीं हो,
दीवाना दीवाना, दीवाना दीवाना,
दीवाना दीवाना, दीवाना दीवाना,
दीवाना दीवाना, दीवाना दीवाना, ना ना ना
मैं तो दीवाना भोले का दीवाना,
दीवाना मैं तो दीवाना भोले का दीवाना,
दीवाना मैं तो दीवाना भोले का दीवाना,
दीवाना मैं तो दीवाना भोले का दीवाना॥

जिसका ब्रम्हा भी दीवाना, जिसका ब्रम्हा भी दीवाना,
जिसका विष्णु भी दीवाना, जिसका विष्णु भी दीवाना,
जिसका नारद भी दीवाना, जिसका नारद भी दीवाना,
जिसका शारद भी दीवाना, जिसका शारद भी दीवाना,
जिसका दीवाना राम है, जिसका दीवाना राम है,
जिसका दीवाना श्याम है, जिसका दीवाना श्याम है,
जिसका ब्रम्हा भी दीवाना, जिसका नारद भी दीवाना,
जिसका शारद भी दीवाना, जिसका दीवाना राम है,
जिसका दीवाना श्याम है,
भोले का मैं दीवाना दर पे है उनके जाना,
भोले का मैं दीवाना दर पे है उनके जाना,
चौखट पे जाके जिनकी झुकता है ये जमाना,
चौखट पे जाके जिनकी झुकता है ये जमाना,
अरे दीवाना दीवाना, दीवाना दीवाना,
दीवाना दीवाना, दीवाना दीवाना,
ना ना ना दीवाना दीवाना,
दीवाना दीवाना, दीवाना दीवाना,
दीवाना दीवाना, ना ना ना
मैं तो दीवाना भोले का दीवाना,
दीवाना मैं तो दीवाना भोले का दीवाना॥

जिनको कहते है शिव दानी, जिनका भोले जी नाम है,
जिनका भोले जी नाम है, जिनका भोले जी नाम है,
जिनके हाथों में सारे जगत का इंतजाम,
जिनके हाथों में सारे जगत का इंतजाम,
जगत का इंतजाम, जगत का इंतजाम,
देता है दान अमृत पीता है विष का प्याला,
देता है दान अमृत पीता है विष का प्याला,
कहलाता है जो भोले शंकर त्रिशूल वाला,
कहलाता है जो भोले शंकर त्रिशूल वाला,
है काम जिसका बिगड़ी सदा सबकी बनाना,
है काम जिसका बिगड़ी सदा सबकी बनाना,
मैं चाहता हूँ उनके चरणों से लिपट जाना,
मैं चाहता हूँ उनके चरणों से लिपट जाना,
दीवाना दीवाना, दीवाना दीवाना,
दीवाना दीवाना, दीवाना दीवाना,
दीवाना दीवाना, दीवाना दीवाना, ना ना ना
मैं तो दीवाना भोले का दीवाना,
दीवाना मैं तो दीवाना भोले का दीवाना,
दीवाना मैं तो दीवाना भोले का दीवाना,
दीवाना मैं तो दीवाना भोले का दीवाना॥

https://youtube.com/watch?v=gy5elSG80PI%3Ffeature%3Doembed

रे मन शिव का सुमिरण कर शिव से आदि शिव से अंत है।

Shiv Bhajanरे मन शिव का सुमिरण कर शिव से आदि शिव से अंत है।

रे मन शिव का सुमिरण कर,
शिव से आदि शिव से अंत है,
शिव ही अजर अमर,
रे मन शिव का सुमिरण कर॥

सत्य सजीव सनातन सुन्दर,
शिव ही सकल सुजान,
शिव ही नाद अबाद अगोचर,
शिव ही ताले सवर,
रे मन शिव का सुमिरण कर,
रे मन शिव का सुमिरण कर॥

शिव ही दृश्य नैन है शिव ही,
शिव महेश नटराज,
शिव पाताल मध्य में शिव है,
शिव है सदैव शिखर,
रे मन शिव का सुमिरन कर,
रे मन शिव का सुमिरण कर॥

शिव शक्ति सर्वोच्च सरल शिव,
शिव ही जग का सार,
शिव के बिना शेष बस शव है,
शिव ना कभी बिसर,
रे मन शिव का सुमिरन कर,
रे मन शिव का सुमिरण कर॥

रे मन शिव का सुमिरण कर,
शिव से आदि शिव से अंत है,
शिव ही अजर अमर,
रे मन शिव का सुमिरण कर॥

https://youtube.com/watch?v=CurN-qeQp_Y%3Ffeature%3Doembed

fb

Leave a Reply