tu akela nhi sanwara sang hai zindgai me bhara ek neya rang hai tu akela nhi sanwara sang hai

ज़िंदगी में भरा एक नया रंग है,
तू अकेला नहीं सांवरा संग है,

जब जब तू ठोकर खाये गा आकर मुझको बचायेगा,
अच्छी राह पे चलता चल तू सांवरा साथ निभाएगा,
ज़िंदगी हर कदम इक नई जंग है,
तू अकेला नहीं सांवरा संग है,

मत कर तेरा मेरा बन्दे साथ न कुछ भी जायेगा,
खाली हाथ आया तू जग में हाथ पिसारे जायेगा,
जो भी तूने किया जाये गा संग है,
तू अकेला नहीं सांवरा संग है,

शुकल दास जीवन नैया को अनुपम खेवन वन हार मिला,
मन मधुवन हो गया है जबसे श्याम पिया का प्यार मिला,
श्याम रंग दे बिन पारस बे रंग है,
लाडला भी रंगा श्याम के रंग है,
तू अकेला नहीं सांवरा संग है,

This Post Has One Comment

  1. Pingback: tu akela nhi sanwara sang hai zindgai me bhara ek neya rang hai tu akela nhi sanwara sang hai – bhakti.lyrics-in-hindi.com – tineb.org/blogger

Leave a Reply