tu darsh dikha de datiye

हो मारा विच जगराते मैं भी ताड़ियाँ दर खड़ियाँ ने संगता प्यारियाँ,
तू आजा विच जगराते शेरवलिये तू आके दर्श दिखा जा शेरावालिये,
प्यास सब दी भुजा जा शेरवलिये मैं एहो अरदास करदा,
तू आजा विच जगराते शेरवलिये…

हो अइया दुरो दुरो संगता प्यारियाँ,
तेरे नाम दियां चड़ियाँ खुमारियाँ,
तेरे दर उते ढोल पये ने भज दे दाती भज दे प्यारे बड़े लगदे,
नाले सोहने सोहने भगत भी नच दे तू दर्श दिखा दे दतिये,
मारा विच जगराते मैं भी ताड़ियाँ

बड़ी लम्बी है कतार तेरे दवार ते,
मइयां रज रज बचैया नु प्यार दे,
सारे रल के जैकारे पये लाउंदे ने,
तेरे चरना च शीश नु झुकाउँदे ने,
मुहो माँगियां मुरादा तेतो पाउंदे ने
तू दर्श दिखा दे दतिये,
तू आजा विच जगराते शेरवलिये

माँ दा होना जगराता सारी रात जी,
मैया चाहिदा है साहनु तेरा साथ जी,
ओह रंग भगता नु नाम वाला चड्या,
तेरे चरना च सिर नु माँ धरिया आजा वेख ले पंडाल किवे भरिया,
तू दर्श दिखा दे दतिये,
तू आजा विच जगराते शेरवलिये

Leave a Reply