tu sanmbh leya jogiyan

अग लगी जदों मेरी कखा दी कुली अंदर,
ओह रज रज के धुना सेक्दे रहे,
जीवे खोल सी किसे मदारी दा,
इंज खड़े तमाशा वेखदे रहे,
मेरी हर हशरत सड़के राख होई,
होई राख वी पैरा नाल कुरेददे रहे,
शरीर जख्मी सी रूह तड़फड़ी सी,
मेनू फेर वी बाज़ार च वेच्दे रहे,
गुरजीत गौतम जिह्ना तेनु मारेया ऐ,
इक वक़्त सी ओह तेनु मथा टेकदे रहे,

मूल पाया साडा जोगी ने,
गल लाया सहनु जोगी ने,
तू सांभ लिया जोगियां नही ते रुल गए सी,
एह दुनिया दे लोकी जान नु तुल गये सी,
तू सांब लिया जोगियां…….

वादे तोड़े कइयां ने,
कइयां दिल मेरा तोडेया सी,
ओह दर ते खड़े इस मंगते नु,
ओहना दबके मार के मोड़ेया सी,
ओह होंसले सारे हंजू बनके डुल गये सी,
तू सांब लिया जोगियां…….

तेरी दुनिया विच गरीबा ते,
जने खने आ रोहब ज्मौंदे ने,
जिउंदे दी पूत कोई पुछदा न,
लाशा नु खुभ स्जौन्दे ने,
धर्म कर्म दियां गलना,
सब सुन भूल गए सी,
तू सांब लिया जोगियां……..

इक ढंग रोटी इक ढंग पानी,
इक ढंग भुखेया सो लेना,
जदो हलाता तंग कर देना,
इकलेया बह के रो लेना,
मुसीबता वाली,
झखड सारे झूल गए सी,
तू सांब लिया जोगियां…….

ऐसी नजर मारी गोतम ते,
गल विच संगली पा छड़ी,
डरदी डरदी लुक जांदी सी,
अज नचन नु ला छड़ी,
तेरे प्यार विच नची,
मुकदर खुल गये सी,
तू सांब लिया जोगियां…….

Leave a Reply