udu asmaan me ma ban ke patang teri

उड़ूँ आसमान में माँ बन के पतंग तेरी,
छोड़ न देना कही डोर तू मेरी,

मिला है सहारा मुझे मैया तेरे प्यार का,
सब कुछ पाया मैंने सुख संसार का,
बरसती रहे मुझपर रेहमत तेरी,
छोड़ न देना कही डोर तू मेरी,
उड़ूँ आसमान में …

तेरे चरणों की धूल माथे से लगाई माँ,
तेरे नाम की है मन में ज्योत जगाई माँ,
चाहे कुछ भी हो जाए ज्योत न भुजे मेरी,
छोड़ न देना मैया डोर तू मेरी,
उड़ूँ आसमान में ……

गमो की बुरी नजरो से बचाये रखना,
छूट ना जाऊ कही मुझे थामे रखना,
दास अजीत को जरूरत है तेरी ,
छोड़ न देना मैया डोर तू मेरी,
उड़ूँ आसमान में ……

Leave a Reply