yaar di kulli vich aake sari duniya bhuli hai

मेनू एस कुल्ली विच आके सारी दुनिया भूली हैं
मेनू एस कुल्ली विच आके सारी दुनिया भूली हैं

विच सलेरण मेरे सोने यार दी कुल्ली हैं

फाल्गुन वे तेरी रूखा वर्गी संगत सलेरण मंदिर दी
कोई झाड़दा जोड़े ते कोई सेवा करदा लंगर दी
इथो नाम दान दी सबनू दात मिली वदमुल्ली हैं
विच सलेरण मेरे सोने यार दी कुल्ली हैं

एस कुल्ली विच पहला पाइयां नाथ मेरे देया मोरा ने
भगत दे संग महिमा गायी रुख पत्तयाँ दैया शोरान ने
एह वी तस तो मस न होई लख हनेरी झूली हैं
विच सलेरण मेरे सोने यार दी कुल्ली हैं

पौनहारि दे दर दा एह वि देखन जोग अजूबा हैं
दुनिया विच सलेरण वरगा धाम नही कोई दूजा हैं
नेट ते सर्च करो एदी महिमा हर एक पेज ते खुली हैं
विच सलेरण मेरे सोने यार दी कुल्ली हैं

सोने वर्गी चमक सुनहरी एस कुल्ली दिया कखं दी
एस चमक दे नाल किथे तकदीर चमकदी लखां दी
ऐथे शिव ते सोनू दी वि सुखिया किस्मत खुली हैं
विच सलेरण मेरे सोने यार दी कुल्ली हैं

Leave a Reply