दरबार में सतगुरु के बड़ा अद्भुत नजारा है

गुरु देव नमः गुरु देव नमः
गुरु देव नमः गुरु देव नमः

बड़ा अद्भुत नजारा है
दरबार में सतगुरु के
बड़ा अद्भुत नजारा है
बहे अमृत की धरा है

हे किरपा सिन्धू हे करुना कर
दुखियो के दुःख मिटाते थे
जिनको कोई राह नही मिलती
भगतो को राह दिखाते थे
डूबतो का किनारा है
बड़ा अद्भुत नजारा है

दरबार मेरे सद्गूरू जी का
इक ख़ास एहमियत रखता है

जो शीश झुकाते सतगुरु को
खुशियों से दामन भरता है

गिरतो का सहारा है
बड़ा अद्भुत नजारा है

आये अब तो शरण में कृपा कीजिये
हम को चरणों में गूरवर जगह दीजिये
सारी दुनिया से न्यारा है
बड़ा अद्भुत नजारा है
बहे अमृत की धरा है

Guru Dev Namah Guru Dev Namah
Guru Dev Namah Guru Dev Namah

Bada Adhbhut Najara Hai
Darbar Mein Sadguru Ke
Bada Adhbhut Nazara Hai
Bahe Amrit Ki Dhara Hai

He Kripa Sindu He Karuna
Hey Karuna Kar
Dukhiyo Ke Dukh Mitate Ho
Jinko Koi Raah Nahi Milti
Bhakto Ko Raah Dikhate Ho
Doobato Ka Kinara Hai
Bada Adhbhut Nazara Hai

Darbar Mere Sadguruji ka
Khas Ahmatiyat Rakhta Hai
Jo Sheesh Jhukate Sad Guru Ko
Khushiyo Se Daman Bharta Hai
Girto Ka Sahara Hai
Bada Adhbhut Nazara Hai

Aayi Ab To Sharan Mein Kripa Keejiye
Ab Charno Mein Guruvar Jagah Deejiye
Saari Duniya Se Nyara Hai
Bada Adhbhut Nazara Hai

Darbar Mein Sadguru Ke
Bada Adhbhut Nazara Hai
Bahe Amrit Ki Dhara Hai

This Post Has One Comment

Leave a Reply