मंदिर मस्जिद गुरूद्वारे को नदान बदल के क्या होगा

मंदिर मस्जिद गुरूद्वारे को नदान बदल के क्या होगा
अगर श्रधा नही विश्वास नही भगवान् बदल के क्या होगा

जब कण कण में वो व्यापत है क्यों ढूंढे उसे मंदिर मस्जिद,
अपने भीतर तू झाँक जरा बेठा है तेरे मन के अन्दर

तू राम का कर या रहीम का कर गुणगान बदल के क्या होगा
अगर श्रधा नही विस्वाश नही भगवान् बदल के क्या होगा

क्या होगा ज्योत जलाने से अगर मन में ढोर अँधेरा है,
तू लाख बदल चोले तन पे मन का दर्पण तेरा चेहरा है

कर देगा व्यान हकीत्कत ये पहचान बदल के क्या होगा
अगर श्रधा नही विस्वाश नही भगवान् बदल के क्या होगा

पोंछे न किसी के आंसू अगर दुखियो के दर्द बटाये न.
किसी घ्याल मन के झख्मो पर तूने मरहम अगर लगाये न

फिर दास भला तेरी पूजा का समान बदल के क्या होगा
अगर श्रद्धा नही विश्वास नही भगवान् बदल के क्या होगा

Mandir Masjid Gurudware Ko
Nadan Badal Ke Kya Hoga
Agar Shraddha Nahin Viswash Nahin
Bhagwan Badal Ke Kya Hoga

Jab Jab Kan Kan Mein Vo Vyapt Hai
Kyon Dhoondhe Use Mandir Masjid

Apne Bhitar Too Jhank Jara
Baitha Hai Tere Man Ke Andar

Tu Ram Ka Kar Ya Rahim Ka Kar
Gunagan Badal Ke Kya Hoga

Agar Shraddha Nahin Viswash Nahin
Bhagwan Badal Ke Kya Hoga

Kya Hoga Jyot Jalane Se
Agar Man Me Ghor Andhera Hai

Tu Lakh Badal Chole Tan Pe
Man Ka Darpan Tera Chehara Hai

Kar Dega Bayan Hakikat Ye
Pechan Badal Ke Kya Hoga

Agar Shraddha Nahin Visvash
Nahin Bhagwan Badal Ke Kya Hoga

Pochche Na Kise Ke Ansu
Agar Dukhiyo Ke Dard Bataye Na

Isi Ghyal Man Ke Jakhmo Par
Toone Maraham Agar Lagae Na

Phir Das Bhala Teri Pooja Ka
Saman Badal Ke Kya Hoga

Agar Shraddha Nahin Viswash Nahin
Bhagwan Badal Ke Kya Hoga

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply