aayo mahara seth sanwara anganiyo mhaare aaj

आओ म्हारा सेठ सांवारा,आँगनिये म्हारे आज,
नूत जिमाउ सावरा,थाने घने चाव सु आज,
जीमो जीमो म्हारा श्याम,नूत जिमाउ….

ना चंदन री चौकी घाली,ना चांदी रो थाल,
तनै जिमाउ सांवारा पलकां रो आसन धाल
जीमो जीमो म्हारा श्याम….

न कर्मा रो खीचड़ ल्याई ना शबरी रो बेर,
बाजरा री रोट हु ल्याई और सांगरी केर,
जीमो जीमो म्हारा श्याम….

खीर चूरमो रोज तू खावे,खावे छप्पन भोग,
झंझट मेरे घना लागरया,कैया बैठे जोग,
जीमो जीमो म्हारा श्याम…..

या सुन देखो श्याम पधारया, धर बालक रो रूप,
जी भरकर आज खाउला, प्यार मिल्यो भरपूर,
जीमे जीमे देखो श्याम,
पूजा भक्त री प्रीत पिछाणी,
चाव से जीमे श्याम।

Leave a Reply