jai jai bholenath jai jai bhandari

जय जय भोलेनाथ जय जय भंडारी
तेरी महिमा है सबसे न्यारी

भोले के जाटो में गंगा विराजे
गले में नाग है भारी
जय जय……..

भोले के हाथो में डमरू विराजे
पैरो में खड़कावा भारी
जय जय…….

भोले के गोदी में गणपत विराजे
संग में गौरा प्यारी
जय जय…….

भोले के दर पर संगत विराजे
चरनो में नंदी पुजारी
जय जय……

Leave a Reply