#नया_भजन॥Lyrics👇👇॥किस्मत ने ऐसा दगा दिया॥सीता रो रो कर बन में भटक रहीं॥भजन सुनकर आपके आंसू आ जाएंगे॥

#नया_भजन॥Lyrics👇👇॥किस्मत ने ऐसा दगा दिया॥सीता रो रो कर बन में भटक रहीं॥भजन सुनकर आपके आंसू आ जाएंगे॥ Bundeli Saheli


सीता बैठी मुनी जी के आश्रम में रो रो के लव से प्यार करें
सीता बैठी मुनी जी के आश्रम में रो रो के लव से प्यार करें

1- सीता सोच रही अपने मन में
राजा दशरथ ससुराल हमारे हैं
किस्मत ने ऐसा दगा दिया
रो-रो के मन में भटक रहीं
सीता बैठी मुनी जी के आश्रम में रो रो के लव से प्यार करें

2-सीता सोच रही अपने मन में
कौशल्या स हमारी है
किस्मत ने ऐसा दगा दिया
रो-रो के मन में भटक रहीं
सीता बैठी मुनी जी के आश्रम में रो रो के लव से प्यार करें

3-सीता सोच रही अपने मन में
राजा लक्ष्मण देवर हमारे हैं
किस्मत ने ऐसा दगा दिया
रो-रो के मन में भटक रहीं
सीता बैठी मुनी जी के आश्रम में रो रो के लव से प्यार करें

4-सीता सोच रही अपने मन में
राजा राम जी पति हमारे हैं
किस्मत ने ऐसा दगा दिया
रो-रो के मन में भटक रहीं
सीता बैठी मुनी जी के आश्रम में रो रो के लव से प्यार करें

#kanhabhajannew
#rambhajanlive
#ramayeayodhya
#ayodhyarammandir
#नया_गीत
#दादरा_गीत
#लोक_भजन
#rambhajannew
#krishnabhajan
#नया_भजन
#kanhabhajan
#dholakbhajan
#youtubeviralvideo
#kartikbhajan
#mahilasangeet
#bhajan
#mangronmahilamandal
#mangronmandal
#kausalyakushvahakebhajan
#कौशल्या_कुशवाहा_के_भजन_मंगरोन
#shakuntalarajpootbhajan
bhajan lyrics बोलिए रामचंद्र भगवान की जय सीता बैठी मुनि के आश्रम में रो रो के लाओ से प्यार करे सीता ब मुनी के आगरा में रा गला से प्यार करे बैठी मुनि के आश्रम में रो रो केला से प्यार करे सीधा बैठी मुनि के आश्र में जो रोग मु प्यार करे सीता कोर अपने मन

में [संगीत] अपने बन राजा दसरा सर राज दशर ससुर हमारे के बन में बा के हीलो पुत से ना प्यार करे रो के मन में ही लाख सेज प्यार करे सीता बैठी मुनि के आश्रम में रोरो के लाओ से प्यार करे सीता वद मुनि के रा में रोरो के जागे प्यार

करे जोग र अपने मन में सधा जोग र अपने मन में सता सोच रही अपने मन में जि सोच रही अपने मन में पतल्या सास हमारी को चल जा जो हमारी किस्मत ने ऐसा दगा दिया रोरो के गन में भटक रही किसमत में ऐसा जगा दिया रो रो

के मल में मट ग सीता बैठी मुनि के आश्रम में रो रो के लाव से प्यार करें बद मुनि के रा में रोरो के ना के प्यारे सीता सोच रही अपने मन में सीता सोच रही अपने मन में राजा लक्षमन देवरा हमारे से राज मन देवरा हमारे के किस्मत ने ऐसा

दगा दिया रो रो केला में बता रही किस्मत ने जगा जिया रो रो के बन पग मत ने ऐसा दगा दिया रो रो के बन में बज के रही के मगन ऐसा ददा दिया रो रो के वन में भज गर सीता बैठी मुनि के आश्रम में रो रो

के लाओ से प्यार करें पिता बध मुनि के राज में रो रोगे लाओगे प्यार कर सता सोज रही अपने मन मेंज सोज रही अपने मन में मैं सीता सोच रही अपने मन में ही अपने मन में राजा रामई पति हमारे थे राजाम पति हमा हैं किस्मत ने ऐसा गा दिया रो के बल

में बाटा के रही किमा मैं ऐसा गा दिया रोगे में भज ग रहा पिता बैठी मुनि के आश्रम में रो रो के लाओ से प्यार करें सीता बज मुनी के आसराम में रो रो के लाओ दे प्यार कर सीता बैठी मुनि के आसराम में रो रो के लाओ से प्यार

करती बोलिए रामचंद्र भगवान की जय #नय_भजनLyricsकसमत #न #ऐस #दग #दयसत #र #र #कर #बन #म #भटक #रहभजन #सनकर #आपक #आस #आ #जएग
Bundeli Saheli More From Bhakti.Lyrics-in-Hindi.com

Leave a Comment